Bhaskaracharya A GREAT DISCOVERER (1114 -1183 Before Common Era)

Monday, Jul 15, 2024 | Last Update : 07:12 AM IST


भास्करचार्य

भास्करचार्य - एक महान डिस्कोवीर (सामान्य युग से पहले १११४ -११८३ )  
Sep 14, 2009, 11:44 am ISTIndiansSarita Pant
Bhaskaracharya

भास्करचार्य एक शिक्षक, एक गणितज्ञ और एक खगोल विज्ञानी भी थे। उनका जन्म महाराष्ट्र के  खूबसूरत इलाकों सह्याद्री में हुआ था। उन्होंने उज्जैन में खगोलीय वेधशाला का नेतृत्व किया जो कि भारत का शिक्षण केंद्र था। सितंबर १४ ,२००९ 9, ११ : ४४  बजे इस्ट इंडियनसारीता पंत भास्करचार्य   भास्कराचार्य भास्करचार्य महान गणितज्ञ भास्करचार्य। एक महान डिस्क्वेवर (सामान्य युग से पहले 1114-1183) भास्करचार्य गणित में पैदा हुए प्रतिभा और एक अधिकार था, खासकर बीजगणित और ज्यामिति में।

उनकी प्रसिद्ध कृति लीलावती और बीजगणिता अपने गहन बुद्धिमत्ता को साबित करके अद्वितीय कार्य करते हैं।

ग्रहों की स्थिति, ग्रहण की घटनाओं और ब्रह्माण्ड पर उनके खगोलीय निष्कर्ष "सिध्दांत शिरोमणि" [सिद्धिंत अर्थ सिद्धांत] नामक अपने ग्रंथ में लिखा गया था, हर एक सिद्धांत शिरमोनी को चार भागों में विभाजित किया गया था;

लीलावती [द्विघात समीकरण, घन समीकरण और क्वार्टिक अनिश्चित समीकरण]
बीजगणिता [बीजगणितीय गणना या बीजगणित]
Grahaganita [खगोलीय (ग्रह) गणना (गणिता)]
गोलियादया [क्षेत्रों या गोलाकार त्रिकोणमिति]

"लिलाव" को १३ अध्यायों में विभाजित किया गया है जिसमें यह गणित, अंकगणित, बीजगणित, ज्यामिति, और त्रिकोणमिति और मानकीकरण का एक हिस्सा शामिल है।

उनके निम्न  काम में शामिल हैं
शून्य '० ' की प्रभाग और '० ' का संचालन नियम
'पीआईई' का आकलन (२२ /७ )
उनके नाम पर नकारात्मक संख्याओं पर कार्य शामिल है
अंकगणित शर्तें 'तीन' और ५ , ७ , ९ , ११  के उलटा नियम

अपनी पुस्तक "सूर्य सिद्धांत" में उन्होंने गुरुत्वाकर्षण बल पर लिखा, जो मदद करता है
ग्रहों, सूर्य और चंद्रमा को उनके संबंधित कक्षाओं में रखने के लिए बहुत पहले दुनिया भी जाग जा सकती थी और इन निष्कर्षों का पता लगा सकता था।

१७  वीं शताब्दी में यूरोपीय गणितज्ञों ने इसे प्राप्त होने से पहले १२  वीं सदी में क्वाड्रेटिक अनिश्चित समीकरण "कुट्टका" दिया था।

७  वीं सदी में ब्रह्मगुप्त ने एक "एस्ट्रोनोमिकल मॉडल" विकसित किया, जिसका उपयोग भास्कर "एस्ट्रोनॉमिकल मात्रा" को परिभाषित करने में सक्षम था। उन्होंने सटीक समय की गणना की है कि पृथ्वी को ३६५. २५८८  दिनों के रूप में सूरज के चारों ओर घूमना था, जो कि ३ .५५  मिनट में  ३६५.२५६३  दिनों की आधुनिक स्वीकृति के अंतर है।

यह लाइबनिज़ या न्यूटन से पहले बहुत भिन्न था या इंटीग्रल कैलकुल्स के साथ आएगा और ग्रेविटी की शक्तियों की व्याख्या करेगी। वह विभेदक गुणांक और विभेदक कलन में गर्भ धारण करने वाले व्यक्ति थे

भास्करचार्य शिक्षक थे, एक गणितज्ञ और एक खगोल विज्ञानी भी थे। उनका जन्म महाराष्ट्र के खूबसूरत इलाकों सह्याद्री में हुआ था। उन्होंने उज्जैन में खगोलीय वेधशाला का नेतृत्व किया जो कि भारत का शिक्षण केंद्र था।

१२  वीं सदी में खगोल विज्ञान और गणित में उनका योगदान बहुत महत्वपूर्ण था जैसा ऊपर उल्लेख किया गया है।

...

Featured Videos!