श्रीदेवी को बॉलीवुड की पहली महिला

Monday, Sep 26, 2022 | Last Update : 11:52 PM IST

बॉलीवुड अभिनेता श्रीदेवी का  दिल का दौरा आने से दुबई में निधन

बॉलीवुड अभिनेता श्रीदेवी का  दिल का दौरा आने से दुबई में २४ फ़रवरी २०१८ को  निधन हो गया वो सिर्फ ५४ साल की थी|
Feb 25, 2018, 12:28 pm ISTNationSarita Pant
Sridevi
  Sridevi

बॉलीवुड अभिनेता श्रीदेवी का  दिल का दौरा आने से दुबई में २४ फ़रवरी २०१८ को  निधन हो गया वो सिर्फ ५४ साल की थी| वह एक बेहतरीन अभिनेत्री थी वह हर तरह के किरदार को बहुत सहजता से निभाती थी | श्रीदेवी के निधन से बॉलीवुड में शोक का माहौल  | प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी तथा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने श्रीदेवी की मृत्यु पर शोक जताया | 

श्रीदेवी कपूर का जन्म 13 अक्तूबर 1963 को सिवकासी मद्रास में हुआ उनके पिता  श्री अम्मा यंगेर अय्यपन, एक भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री और निर्माता थे जिन्होंने तमिल, तेलुगू, हिंदी, मलयालम और कन्नड़ फिल्मों में अभिनय किया था। उनकी माता राजेश्वरी तेलगू थी उनकी माता आंध्र प्रदेश की थी तथा उनकी एक बहन और दो सौतेले भाई भाई भी है | सन १९८५ में उनकी शादी मिथुन चक्रवती से हुई मिथुन चक्रवती उनके पहले पति थे और बाद में  सं १९९६ में श्रीदेवी की शादी फिल्म निर्माता बोनी कपूर से शादी हुई बोनी कपूर अनिल कपूर के बड़े भाई है | श्रीदेवी की दो बेटिया जानवी और ख़ुशी है | 

श्रीदेवी को बॉलीवुड की पहली महिला "सुपरस्टार" के रूप में माना जाता है, वह छह फिल्मफेयर पुरस्कार से  प्राप्तकर्ता हैं। सं 1990 के दशक में श्रीदेवी सबसे लोकप्रिये  अभिनेताओं में से हैं और उन्हे १९८० तथा  १९९०  युग की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्री के रूप मे  माना जाता है। 

श्रीदेवी ने चार साल की उम्र में   १९६९ में भक्ति फिल्म थूनीवन मे बाल कलाकार के रूप में अपना कॅरियर शुरू किया था| श्रीदेवी  तमिल, तेलगू, मलयालम और कन्नड़ फिल्मों में बाल कलाकार के रूप में काम करना जारी रखा। वह हिट जूली (1975) में एक बाल कलाकार के रूप में अपनी बॉलीवुड की शुरुआत की |

श्रीदेवी ने तमिल और तेलुगू सिनेमा की अग्रणी अभिनेत्री के रूप में खुद को स्थापित किया| और तमिल फिल्म मोन्द्रु मूडीचु (1 9 76) के साथ 13 साल की उम्र में अपनी पहली वयस्क भूमिका निभाई। और  बाद में, , जैसे कि 16 वायथिनइल (1977), सिगमू रोजक्कल (1978), वरुमेयिन निर्राम शिवप्पा (1980), मेन्दम कोकीला (1981), प्रेमभास्शेकम (1981) , मोन्द्रराम पराई (1982), आखरी पोरतोम (1988), जगडेका वीरडू अतिकोका सुंदरी (1990) और क्षन कसनम (1991)।

1979 में श्रीदेवी ने बॉलीवुड की शुरुआत की, जिसमें नाटक फिल्म सोल्वा  सावन की भूमिका में भूमिका निभाई। 1983 के उत्पादन हिम्मतावाला के साथ उन्होंने काफी ध्यान दिया। वह 1983 में मावाली (1983), तोहफा  (1984), नया  कदम (1984), मकसद  (1984), मास्टरजी (1985), नज़राना (1987), मिस्टर  इंडिया (1987) , वक्त की आवाज़ (1988) और चांदनी (1989) उन्हे व्यावसायिक रूप से सफल फिल्मों जैसे सदमा  (1983), नागीना (1986), चालबाज (1989), लम्हे (1991), खुदा गवाह (1992), गुमराह (1993), लाडला (1994) और जुदाई 

श्रीदेवी ने पांच फिल्मफेयर पुरस्कार जीते और दस बार उनको नामांकित किया गया | 

श्रीदेवी 15 साल के अंतराल के बाद सं  2012 में ₹ 780 मिलियन ग्रॉसिंग कॉमेडी ड्रामा अंग्रेजी विंग्लिश के साथ फिल्म उद्योग में लौटी । फिल्म ने समीक्षकों और दर्शकों से सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त की। फिर 2017 रोमांचक फिल्म मोम में उनकी 300 वीं और अंतिम फिल्म भूमिका में अभिनय किया; श्रीदेवी ने फिल्म में उनके प्रदर्शन के लिए आलोचकों की सराहना की।

2013 में, भारत सरकार ने श्रीदेवी को देश के चौथे उच्चतम नागरिक सम्मान पद्म श्री से सम्मानित किया। 

भारतीय सिनेमा की शताब्दी के अवसर पर 2013 में आयोजित एक सीएनएन-आईबीएन राष्ट्रीय सर्वेक्षण में उन्हें '100 साल में भारत की महान अभिनेत्री' के रूप में  वोट दिया गया था। 

...

Featured Videos!